11/21/2005

एक ज्यामितीय कविता

मैं और तुम
एक ही दिशा में
न जाने कब से चलती हुई
दो समान्तर रेखाएं हैं ।

आओ क्यों न इन
रेखाओं पर
प्यार का एक लम्ब डाल दें ?

मैं इसी लम्ब के
घुटनें पकड़ पकड़
शायद तुम तक
पहुँच सकूँ !

अनूप

फ़ुरसतिया जी ! दूसरी पँक्ति पर विशेष ध्यान दें :-)

3 comments:

अनूप शुक्ला said...

ध्यान दिया है।बढ़िया है!

Anonymous said...

anup ji apaki sabhi gait se sambandhit kavitaon ko kritya ke liye dejiye, ek naya prayog hoga, kaafi vakt pahale maine bhi ek jyamiti par kavita lihi thi, abhi apane blog par post karati hoon
Rati

Anonymous said...

anup ji apaki sabhi gaNit se sambandhit kavitaon ko kritya ke liye dejiye, ek naya prayog hoga, kaafi vakt pahale maine bhi ek jyamiti par kavita lihi thi, abhi apane blog par post karati hoon
Rati

11:19 AM