6/16/2008

मुक्तक


मीठी यादों की एक निशानी देखूँ
जज़्बों में पहचान पुरानी देखूँ
मैं जिसमे किरदार हुआ करता था
तेरे चेहरे पे वो कहानी देखूँ ।

22 comments:

Pratyaksha said...

वाह !
(लेकिन ओह !
तेरे चेहरे पर वो कहानी देखूँ
किरदार गये वक्तों में ..था तो मैं ही
पर , अलास (अंग्रेज़ी वाला ) हीरो था कोई और
और मैं सिर्फ
कॉमेडी रोल की चार लाईना ही ..)
अब जूते चप्पल मत मारियेगा :-)

नीरज गोस्वामी said...

अनूप जी
कितने कम शब्दों में कितनी सारी बात कह गए आप. वाह. बहुत खूब.
नीरज

Parul said...

bahut badhiyaa...

Udan Tashtari said...

बहुत उम्दा.

कभी मौका लगे तो वो कहानी भी सुनाईयेगा जिसमें आप किरदार थे. :)

अनूप भार्गव said...

नीरज जी, पारुल ! मुक्तक पसन्द करने के लिये धन्यवाद ।
समीर ! उस 'कहानी की कहानी' तो कभी फ़ुरसत से सुनायेंगे ।
प्रत्यक्षा ! हाँ ’रोल’ बदल जाने से कहानी कितनी बदल जाती है ? :-) । तुम्हारी ज़मीन पर चार लाइना हाज़िर हैं :

ढलते मौसम में इक शाम सुहानी देखूँ
अपनी तस्वीर भी देखूँ तो पुरानी देखूँ
आरजु ऐसी न थी ये वक्त भी आ जायेगा
अपने सर पे तेरे जूतों की निशानी देखूँ
:-)

Dr. Chandra Kumar Jain said...

अच्छी प्रस्तुति.....गहरा ख़याल.
=======================
डा.चंद्रकुमार जैन

Pratyaksha said...

अब वाकई आपने जूता क्या सर भी तोड़ डाला :)))

neeraj tripathi said...

बढ़िया ..

ढलते मौसम में इक शाम सुहानी देखूँ
अपनी तस्वीर भी देखूँ तो पुरानी देखूँ
आरजु ऐसी न थी ये वक्त भी आ जायेगा
अपने सर पे तेरे जूतों की निशानी देखूँ

ये ज्यादा बढ़िया...

DR.ANURAG said...

वाह सर जी....आप तो छा गये

vinay k joshi said...

aur muktako ka intajar hai |

योगेन्द्र मौदगिल said...

वाह-वाह बंधुवर,
मजा आ गया..
अन्य मुक्तकों की प्रतीक्षा रहेगी..

श्रद्धा जैन said...

bhaut achha

sandhyagupta said...

अनूप जी,
आपकी रचनायें देखी। ये गम्भीरं भावबोध और सहज अभिव्यक्ति की रचनायें हैं। बधाई! शुभकामनायें!
संध्या

sandhyagupta said...
This comment has been removed by the author.
sandhyagupta said...

aapne khwab bunna kyoon band kar diya, likhna kyoon band kar diya?

guptasandhya.blogspot.com

सहज साहित्य said...

भाई अनूप जी
मुक्तक मन को छू गया ।
रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

sangharshhijiwan said...

एक पूरी की पूरी कहानी कह जाता है यह मुक्तक .....

मैं जिसमे किरदार हुआ करता था
तेरे चेहरे पे वो कहानी देखूँ ।


बेहद मासूम पंक्तियाँ हैं यह ............

Harkirat Haqeer said...

मीठी यादों की एक निशानी देखूँ
जज़्बों में पहचान पुरानी देखूँ
मैं जिसमे किरदार हुआ करता था
तेरे चेहरे पे वो कहानी देखूँ ।

Wah bhot khoob......!!!

dwij said...

वाह -वाह

बहुत खूबसूरत शेर
.


www.dwijendradwij.blogspot.com

dwij said...

ढलते मौसम में इक शाम सुहानी देखूँ
अपनी तस्वीर भी देखूँ तो पुरानी देखूँ
आरजु ऐसी न थी ये वक्त भी आ जायेगा
अपने सर पे तेरे जूतों की निशानी देखूँ

hahahahahahahahahahah
vaah- vaah

Harkirat Haqeer said...

मीठी यादों की एक निशानी देखूँ
जज़्बों में पहचान पुरानी देखूँ
मैं जिसमे किरदार हुआ करता था
तेरे चेहरे पे वो कहानी देखूँ ......

Waah Waah....! Bhot koob.....

जितेन्द्र ‘जौहर’ Jitendra Jauhar said...

‘मुक्तक विशेषांक’ हेतु रचनाएँ आमंत्रित-

देश की चर्चित साहित्यिक एवं सांस्कृतिक त्रैमासिक पत्रिका ‘सरस्वती सुमन’ का आगामी एक अंक ‘मुक्‍तक विशेषांक’ होगा जिसके अतिथि संपादक होंगे सुपरिचित कवि जितेन्द्र ‘जौहर’।

उक्‍त विशेषांक हेतु आपके विविधवर्णी (सामाजिक, राजनीतिक, आध्यात्मिक, धार्मिक, शैक्षिक, देशभक्ति, पर्व-त्योहार, पर्यावरण, शृंगार, हास्य-व्यंग्य, आदि अन्यानेक विषयों/ भावों) पर केन्द्रित मुक्‍तक/रुबाई/कत्अ एवं तद्‌विषयक सारगर्भित एवं तथ्यपूर्ण आलेख सादर आमंत्रित हैं।

इस संग्रह का हिस्सा बनने के लिए न्यूनतम 10-12 और अधिकतम 20-22 मुक्‍तक भेजे जा सकते हैं।

लेखकों-कवियों के साथ ही, सुधी-शोधी पाठकगण भी ज्ञात / अज्ञात / सुज्ञात लेखकों के चर्चित अथवा भूले-बिसरे मुक्‍तक/रुबाइयात/कत्‌आत भेजकर ‘सरस्वती सुमन’ के इस दस्तावेजी ‘विशेषांक’ में सहभागी बन सकते हैं। प्रेषक का नाम ‘प्रस्तुतकर्ता’ के रूप में प्रकाशित किया जाएगा। प्रेषक अपना पूरा नाम व पता (फोन नं. सहित) अवश्य लिखें।

इस विशेषांक में एक विशेष स्तम्भ ‘अनिवासी भारतीयों के मुक्तक’ (यदि उसके लिए स्तरीय सामग्री यथासमय मिल सकी) भी प्रकाशित करने की योजना है।

मुक्तक-साहित्य उपेक्षित-प्राय-सा रहा है; इस पर अभी तक कोई ठोस शोध-कार्य नहीं हुआ है। इस दिशा में एक विनम्र पहल करते हुए भावी शोधार्थियों की सुविधा के लिए मुक्तक-संग्रहों की संक्षिप्त समीक्षा सहित संदर्भ-सूची तैयार करने का कार्य भी प्रगति पर है।इसमें शामिल होने के लिए कविगण अपने प्रकाशित मुक्तक/रुबाई/कत्‌आत के संग्रह की प्रति प्रेषित करें! प्रति के साथ समीक्षा भी भेजी जा सकती है।

प्रेषित सामग्री के साथ फोटो एवं परिचय भी संलग्न करें। समस्त सामग्री केवल डाक या कुरियर द्वारा (ई-मेल से नहीं) निम्न पते पर अति शीघ्र भेजें-

जितेन्द्र ‘जौहर’
(अतिथि संपादक ‘सरस्वती सुमन’)
IR-13/6, रेणुसागर,
सोनभद्र (उ.प्र.) 231218.
मोबा. # : +91 9450320472
ईमेल का पता : jjauharpoet@gmail.com
ब्लॉग : jitendrajauhar.blogspot.com